Breaking News
Home / जुर्म / योगी आदित्यनाथ कानून पर लेक्चर दे रहे थे, पास मुस्कुरा रहा था हत्या का आरोपी

योगी आदित्यनाथ कानून पर लेक्चर दे रहे थे, पास मुस्कुरा रहा था हत्या का आरोपी

amanmani-tripathi-l1

Amanmani-Tripathi-620x400

गोरखपुर : इसे इत्तेफ़ाक़ कहा जाए या विडम्बना? उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आज गोरखपुर में प्रदेश की कानून व्यवस्था पर भाषण दे रहे थे और उनके पास ही बैठा हत्या का आरोपी अमन मणि त्रिपाठी मुस्कुरा रहा था.
उल्लेखनीय है कि अमनमणि त्रिपाठी उत्तर प्रदेश के बाहुबली माने जाने वाले नेता अमरमणि त्रिपाठी के बेटे है और हाल ही में संपन्न हुए चुनाव में वह नौतनवा सीट से निर्दलीय विधायक के रूप में चुने गए है। मंच से योगी ने ऐसे लोगों को यूपी छोड़ देने की सलाह दी जिन्हें राज्य की कानून-व्यवस्था पर भरोसा नहीं है। पर दुनिया देख रही थी, पर शायद कइयों को पता नहीं था कि इसी दौरान सीएम के मंच पर उनके साथ एक ऐसा शख्स मौजूद था जिस पर अपनी पत्नी की हत्या का आरोप है। बता दें कि, योगी जिस मंच से राज्य में लॉ ऑर्डर दुरुस्त करने का वादा कर रहे थे उसी मंच पर अमनमणि त्रिपाठी मौजूद थे।
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ दो दिनों के गोरखपुर दौरे पर हैं। भाजपा ने उनके स्वागत के लिए कार्यक्रम आयोजित किया है। इसी स्वागत कार्यक्रम के मंच पर भाजपा नेताओं के बीच अमनमणि त्रिपाठी भी विराजमान थे। इतना ही नहीं बल्कि गोरखपुर विश्वविद्यालय में आयोजित इस कार्यक्रम में अमनमणि ने योगी के पैर छूकर आशीर्वाद भी लिये।
सत्यशोधक रही के पाठकों को बता दें कि उत्तर प्रदेश के सियासी बाहुबलियों में शामिल अमरमणि त्रिपाठी इस वक्त युवा कवयित्री मधुमिता शुक्ला की हत्या के दोष में आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं। उनकी जगह विधायक बने उनके बेटे अमनमणि त्रिपाठी पर अपनी पत्नी सारा की हत्या का आरोप लगा है। अमनमणि त्रिपाठी हाईप्रोफाइल मामले की जांच सीबीआई कर रही है। इससे पहले सीबीआई ने इस केस में अमनमणि को गिरफ़्तार भी किया था।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जुलाई 2015 एक सड़क हादसे में अमनमणि त्रिपाठी की पत्नी सारा की मौत हो गई थी। ये हादसा उस वक्त हुआ था जब लखनऊ से एक कार से दिल्ली जा रहे थे। सारा की मां ने इस घटना को दुर्घटना मानने से इनकार कर दिया था और कहा था कि उनकी बेटी की हत्या की गई है।

About Satya Sodhak Rahi

Check Also

01052019

देवेन भारती को मुझसे दूर रखो राजेन्द्र त्रिवेदी ने मांगा था प्रशासनिक संरक्षण

वरिष्ठ पत्रकार “अकेला” मुम्बई पुलिस के इतिहास में शायद यह पहला ऐसा मामला होगा जिसमें …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *