Breaking News
Home / अन्य / Career / “आप” विधायक के लाइव के बाद चुनाव आयोग ने कहा ईसीआई ईवीएम के साथ छेड़छाड़ संभव नहीं

“आप” विधायक के लाइव के बाद चुनाव आयोग ने कहा ईसीआई ईवीएम के साथ छेड़छाड़ संभव नहीं

ईवीएम मुद्दों एवं अन्‍य चुनावी सुधारों पर 12 मई, 2017 को अखिल भारतीय राजनीतिक दलों की बैठक

EVMs-Securing-Fair-and-Free-Elections-copy

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के विधायक सौरभ भारद्वाज द्वारा दिल्ली विधानसभा में दिल्ली सरकार के विशेष अधिवेशन में किये गए EVM मशीन के साथ लाइव छेड़छाड़ के डेमोंस्ट्रेशन के बाद चुनाव आयोग ने अपने मशीनों के साथ किसी भी छेड़छाड़ का इनकार किया है. चुनाव आयोग को मीडिया के माध्‍यम से जानकारी मिली है कि ईवीएम की तरह दिखने वाले एक गैजेट के साथ तथाकथित रूप से छेड़छाड़ करने की एक घटना प्रदर्शित की गई।
मामले पर अपना पक्ष रखते हुए चुनाव आयोग ने कहा है कि इस संदर्भ में, यह समझे जाने की जरूरत है कि किसी भी व्‍यक्ति के लिए ईवीएम की तरह दिखने वाले किसी भी इलेक्‍ट्रॉनिक गैजेट के साथ छेड़छाड़ करना या कोई मैजिक प्रदर्शित करना संभव है। बिल्‍कुल सरल शब्‍दों में कहे तो ‘मशीन की तरह दिखने वाला’ कोई भी गैजेट केवल एक गैजेट मात्र है जिसकी डिजाइन इस प्रकार से तैयार की जाती है कि उसके साथ छेड़छाड़ किया जा सके और इसका चुनाव आयोग के ईवीएम के साथ कोई संबंध, महत्‍व या प्रभाव नहीं है।
चुनाव आयोग की तरफ से जारी प्रेस विज्ञप्ति में चुनाव आयोग ने कहा है कि इस चीज को आसानी के साथ ऐसे समझा जा सकता है कि ईसीआई ईवीएम के अतिरिक्‍त किसी भी अन्‍य गैजेट की प्रोग्रामिंग इस प्रकार की जाती है कि उसके साथ पूर्व निर्धारित तरीके से कोई छेड़छाड़ की जा सके लेकिन इसका यह अभिप्राय कतई नहीं है कि ईसीआई ईवीएम भी उसी प्रकार कार्य करेगा। इसकी वजह यह है कि ईसीआई ईवीएम तकनीकी रूप से सुरक्षित होता है और एक व्‍यापक प्रशासनिक एवं सुरक्षा प्रोटोकॉल के तहत कार्य करता है।
चुनाव आयोग ने बताया कि भारत के चुनाव आयोग (ईसीआई) ने ईवीएम मुद्दों एवं अन्‍य चुनावी सुधारों पर 12 मई, 2017 को अखिल भारतीय राजनीतिक दलों की एक बैठक आयोजित की है। ईसीआई ईवीएम पर संद्या स्थिति अध्‍ययन पत्र ( स्‍टेटस पेपर) ईसीआई की वेबसाइट http://eci.nic.in/eci_main1/current/StatusPaperonEVM_09052017.pdf पर उपलब्‍ध है जो ईसीआई ईवीएम को छेड़छाड़ मुक्‍त बनाने के लिए ईसीआई द्वारा उठाये गये सुरक्षा संबंधी कदमों के विवरण प्रदान करता है।

About Satya Sodhak Rahi

Check Also

01052019

देवेन भारती को मुझसे दूर रखो राजेन्द्र त्रिवेदी ने मांगा था प्रशासनिक संरक्षण

वरिष्ठ पत्रकार “अकेला” मुम्बई पुलिस के इतिहास में शायद यह पहला ऐसा मामला होगा जिसमें …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *