Breaking News
Home / Slider Homepage / जॉर्ज फर्नांडिस : लंबी बीमारी के बाद निधन

जॉर्ज फर्नांडिस : लंबी बीमारी के बाद निधन

george_fernandes_death Jan 2019पूर्व रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडीज का लंबी बीमारी के बाद आज 88 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है। जार्ज फर्नांडीज ने दिल्ली के मैक्स अस्पताल में सुबह सात बजे आखिरी सांस ली। वह पिछले काफी समय से अल्जाइमर नाम की बीमारी से पीड़ित थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जार्ज फर्नांजीज के निधन पर शोक व्यक्त किया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, आरजेडी नेता लालू यादव ने भी उनके निधन पर दुख जताया है।

प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, ‘जॉर्ज साहब ने भारत की बेहतरीन लीडरशिप का प्रतिनिधत्व किया। वह बेबाक और निर्भिक थे। उन्होंने देश के लिए अमूल्य योगदान दिया। वह गरीबों की सबसे मजबूत आवाज थे। उनके निधन से दुखी हूं।’ कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने फेसबुक पोस्ट में कहा, ”पूर्व सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री जॉर्ज फर्नांडीस के निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ।दुख की इस घड़ी में उनके परिवार और मित्रों के प्रति मेरी संवेदना है।”
अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में रक्षा मंत्री रहे जार्ज फर्नांडीज ने सेना के लिए कई बेहतरीन कदम उठाए थे। फर्नांडीज की तबीयत पिछले काफी समय से खराब थी। फर्नांडीज ने रक्षा मंत्रालय, उद्योग मंत्रालय जैसे कई अहम विभाग संभाले थे।
3 जून 1930 को कर्नाटक में जन्मे जॉर्ज फर्नांडिस 10 भाषाओं के जानकार थे। उनका हिंदी, अंग्रेजी, तमिल, मराठी, कन्नड़, उर्दू, मलयाली, तुलु, कोंकणी और लैटिन भाषा पर अच्छा अधिकार था। उनकी मां किंग जॉर्ज पंचम की बड़ी प्रशंसक थीं। उन्हीं के नाम पर अपने छह बच्चों में से सबसे बड़े का नाम उन्होंने जॉर्ज रखा था।
आपातकाल के दौरान गिरफ्तारी से बचने के लिए जार्ज फर्नांडीज ने पगड़ी पहन और दाढ़ी बढ़ा कर सिख का भेष धारण किया था, जबकि गिरफ्तारी के बाद तिहाड़ जेल में कैदियों को गीता के श्लोक सुनाया करते थे। 1974 की रेल हड़ताल के बाद वह कद्दावर नेता के तौर पर उभरे और उन्होंने बेबाकी के साथ आपातकाल लगाए जाने का विरोध किया था।
आपातकाल खत्म होने के बाद फर्नांडीज 1977 का लोकसभा चुनाव जेल में रहते हुए मुजफ्फरपुर लोकसभा सीट से लड़े और रेकॉर्ड मतों से जीते। जनता पार्टी की सरकार में वह उद्योग मंत्री बनाए गए थे। बाद में जनता पार्टी टूटी, फर्नांडीज ने अपनी पार्टी समता पार्टी बनाई और भाजपा का समर्थन किया। फर्नांडीज ने अपने राजनीतिक जीवन में उद्योग, रेल और रक्षा मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाली।

About Satya Sodhak Rahi

Check Also

*झुणका भाकर केंद्र चलाकर गुज़ारा करते हैं नगरसेवक सुनील यादव*

वार्ड क्रमांक 80 के नगरसेवक सुनील यादव भले ही मुम्बई बीएमसी के नगरसेवक हो लेकिन …

4 comments

  1. Swastikas, other anti-Semitic graffiti defaces Jewish cemetery
    in Massachusetts … via @nbcnews http://massachusetts-age-of-cons68666.onesmablog.com

  2. You really make it seem so easy together with your presentation however I find this matter to be
    really one thing which I believe I’d never understand. It
    sort of feels too complicated and extremely wide for
    me. I am having a look ahead on your subsequent submit, I will try to get the cling of it! https://thex.pw/onlinepokerhandsperhour746730

  3. Excellent way of telling, and pleasant piece
    of writing to obtain information regarding my presentation subject, which i am going to present in institution of
    higher education. https://twitter.com/win_eight

  4. Buying internett media, as an examрle impressions, emails distributed, sponsorѕhips, and thus on. The first form of promotional ѕtraategy
    that may be exаmineⅾ iis searϲһ results advertising.
    Use online follow-up methods including emаil and sttay prepaгed
    to use direct mail.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *